Friday, November 8, 2019

Green Chemistry In Hindi | Green Chemistry Principles

0 comments
Green Chemistry : Green Chemistry जिसे Sustainable Chemistry भी कहा जाता है, हरित रसायन केमिकल इंजीनियरिंग तथा रसायन का एक बहुत बड़ा area है जो उत्पादों और उत्पादों की प्रक्रियाओं के डिज़ाइन पर ध्यान रखता है जो की खतरनाक रसायनो के उपयोग और उत्पादन को कम ख़त्म करता है, जबकि Environmental Chemistry प्रकृति में प्रदूषण फैलाने वाले रसायनों के प्रभावों पर ध्यान केंद्रित करता है, Green Chemistry रसायन विज्ञान के पर्यावरणीय प्रभाव पर ध्यान केंद्रित करता है, जिसमें Pollution को रोकने के लिए गैर-संसाधनों और तकनीकी दृष्टिकोण की खपत को कम करना शामिल है।
Green Chemistry kya hai Green Chemistry Principles
Green Chemistry In Hindi | Green Chemistry Principles

Green Chemistry In Hindi :

Green Chemistry शब्द का पहली बार इस्तेमाल Paul Ansts ने 1991 में किया था Green Chemistry हमारे Environment तथा Earth को Chemicals के दुष्प्रभाव से मुक्त कराने में विश्वास रखती है हरित रसायन में उद्योग Chemicals से हो रहे विनाशकारी Effects को कम या ख़त्म करने एवं रासायनिक बादलों को बेहतर एवं परीक्षण बनाने की कोशिश की जा रही है

1998 में Paul Ansts, जो उस समय USA के EPA में ग्रीन Chemistry प्रोग्राम का चलाते थे। वार्नर (तब पोलरॉइड corporation के तत्कालीन) ने green केमिस्ट्री की प्रैक्टिस के लिए सिद्धांतों का एक set प्रकाशित किया था। Green Chemistry 12 Principal रासायनिक उत्पादन के पर्यावरण और स्वास्थ्य प्रभावों को कम करने के कई तरीकों को संबोधित करते हैं, और ग्रीन केमिस्ट्री विज्ञानTechnology के विकास के लिए अनुसंधान priorities को भी इंगित करते हैं।

Green Chemistry Principals 

green chemistry 12 principles in Hindi : Green Chemistry के कुल 12 सिद्धांत है जो निम्नलिखित है -

➤ रसायनों को इस प्रकार के चुनना चाहिए ताकि आगे उनसे कोई आगे घटना ना हो ➤ उत्प्रेरक अभिकर्मक रसमी करण अभिकर्मको में श्रेष्ठ है
➤ क्षय बनने के बाद उसे साफ करने से अच्छा है कि उसे पहले ही रोक दिया जाए
➤ रासायनिक उत्पादों का निर्माण किस तरह से करना चाहिए जिससे हानि कम हो और ज्यादा चले
➤ सहायक चीजों का कम उपयोग करना चाहिए 
➤ ऊर्जा की उपलब्धियों का ध्यान रखना चाहिए जिसके द्वारा हो रही प्राकृतिक आर्थिक प्रभाव का ख्याल रखा जा सके
➤ रासायनिक उत्पादों को इस प्रकार से बनाना चाहिए कि वह ज्यादा समय तक बने रहें और पर्यावरण को हानि भी ना पहुंचाएं
➤ विश्लेषणात्मक(analytics) प्रक्रियाओं को और उन्नत बनाना चाहिए जिससे हानिकारक वस्तू बनने से पहले ही उसे रोक दिया जाए
➤ अंतिम उत्पादन की प्रक्रिया में सारी चीजों का सर्कल बढ़ाने के लिए कृत्रिम चीजों का निर्माण करना चाहिए
➤ कच्चे माल के इस्तेमाल पर ज्यादा ध्यान देना चाहिए
➤ Derivatives वस्तुओं का इस्तेमाल कम कर देना चाहिए 
➤ जहां तक व्यवहारिक हो तब तक कृत्रिम चीजों का निर्माण कर ऐसी चीजें बनानी चाहिए जिससे मानवता की हानि ना हो

Some Important Questions Of Green Chemistry 

Why is green chemistry important?
Green Chemistry के अंतर्गत केमिकल इंजीनियरिंग उन उत्पादों और प्रक्रियाओं के डिजाइन पर केंद्रित है जो खतरनाक पदार्थों के उपयोग और उत्पादन को कम या कम करते हैं जिससे ग्रीन केमिस्ट्री को बहुत ज्यादा महत्वपूर्ण मन जाता है 

➤ Who is the father of green chemistry?
Father of green chemistry "Paul Anastas"

➤ What is green chemistry and its principles?
Green Chemistry जिसे Sustainable Chemistry भी कहा जाता है, हरित रसायन केमिकल इंजीनियरिंग तथा रसायन का एक बहुत बड़ा area है जो उत्पादों और उत्पादों की प्रक्रियाओं के डिज़ाइन पर ध्यान रखता है जो की खतरनाक रसायनो के उपयोग और उत्पादन को कम ख़त्म करता है

➤ How is green chemistry used in everyday life?
इसका उपयोग हरियाली सॉल्वैंट्स के साथ संयोजन में इस्तेमाल किया जा सकता है 

➤ What is an example of green chemistry?
ग्रीन केमिस्ट्री का उपयोग अकार्बनिक यौगिकों जैसे हाइड्रोजन पेरोक्साइड, फॉस्फोरिक एसिड, सोडियम कार्बोनेट और इथेन-1,2-डायोल और इथेनॉल जैसे कार्बनिक यौगिकों के निर्माण के रूप में किआ जाता है 

➤ What is green reagent?
ग्रीन अभिकर्मक ग्रीन  (green reagent) वह reagent है जो रासायनिक उत्पादों के Desighn, निर्माण और अनुप्रयोग में खतरनाक पदार्थों के उपयोग या उत्पादन को कम या समाप्त कर देता है

➤ How many principles of green chemistry?
twelve principles

➤ Who created the 12 principles of green chemistry?

Follow Us On Facebook 
Follow Us On Twitter 
Follow Us ON Telegram

No comments:

Post a Comment