महाशिवरात्रि व्रत कथा | Maha Shivratri Vrat Katha PDF, Aarti, Puja Vidhi in Hindi

Download a Free PDF of Maha Shivratri Vrat Katha and puja vidhi Mahashivratri a major Hindu festival dedicated to Lord Shiva, one of the main deities of Hinduism.

इस वर्ष 2023 में भी महाशिवरात्रि का त्यौहार हर वर्ष की तरह बड़े धूमधाम से मनाया जाएगा। जैसा कि हम सभी जानते हैं महाशिवरात्रि एक प्रमुख हिंदू त्योहार है जोकि हिंदू धर्म के प्रमुख देवों में से एक भगवान शिव का प्रमुख पर्व है। महाशिवरात्रि माघ फाल्गुन  के कृष्ण पक्ष की  चतुर्दशी को मनाया जाता है।  ऐसा माना जाता है कि सृष्टि का आरंभ इसी दिन से हुआ था।

महाशिवरात्रि के भव्य पर्व पर शिव जी के भक्त उपवास करते हैं और उन्हें हल एवं प्रसाद अर्पित करते हैं। इस दिन भगवान शिव के मंदिर में कई भक्तों लंबी कतार में लगकर शिवलिंग पर दूध पानी इत्यादि चढ़ाते हैं एवं मंत्रों का जाप करते हैं। ऐसा माना जाता है कि महाशिवरात्रि पर भगवान शिवजी की पूजा करने से मानव जीवन में शांति समृद्धि एवं खुशहाली प्राप्त होती है। यह त्यौहार भारत के ज्यादातर सभी हिस्सों में बहुत ही उत्साह के साथ मनाया जाता है।

महाशिवरात्रि व्रत कथा बहुत ही महत्वपूर्ण है और हिंदू धर्म में इसकी बहुत अधिक मान्यता है। इस व्रत कथा के अनुसार जब एक बार पार्वती माता ने शिवजी से पूछा कि उनके दरबार में कौन से उत्तम भक्त है। तो शिवजी ने उत्तर दिया कि महाशिवरात्रि के दिन जो भी शुद्ध चित्त मन से उनकी पूजा करता है उनका सबसे उत्तम भक्त होता है।

महाशिवरात्रि व्रत कथा (Maha Shivratri Vrat Katha)

समुद्र मंथन की कथा 

समुद्र मंथन अमृत उत्पादन करने के लिए निश्चित था,  लेकिन अमृत के साथ-साथ हलाहल नामक विष भी पैदा हुआ। हलाहल विष ब्रह्मांड को संपूर्ण तरह से नष्ट करने की क्षमता रखता था लेकिन केवल भगवान शिव इसे नष्ट कर सकते थे। भगवान भोलेनाथ ने इस विष को अपने कंठ में धारण कर लिया। जहर इतना शक्तिशाली था कि भगवान शिव इससे दर्द महसूस करने लगे और उनका गला नीला पड़ गया। तब से ही भगवान भोलेनाथ को “नीलकंठ” कहा जाता है। उपचार के लिए चिकित्सकों एवं देवगणो  द्वारा भगवान शिव को रात भर जगने की सलाह दी गई जिसके लिए अलग-अलग नृत्य एवं संगीत बजाएं जाने लगे हैं। जैसे सुबह हुई उनकी भक्ति से प्रसन्न होकर भगवान शिव ने उन सभी को आशीर्वाद दिया। शिवरात्रि इसी घटना का उत्सव है, जिससे शिव ने दुनिया को बचाया, तब से ही भक्त इस दिन उपवास रखते है।

शिकारी कथा

‘महाशिवरात्रि’ के विषय में भिन्न – भिन्न मत हैं, कुछ विद्वानों का मत है कि आज के ही दिन शिवजी और माता पार्वती विवाह-सूत्र में बंधे थे जबकि अन्य कुछ विद्वान् ऐसा मानते हैं कि आज के ही दिन शिवजी ने ‘कालकूट’ नाम का विष पिया था जो सागरमंथन के समय समुद्र से निकला था | ज्ञात है कि यह समुद्रमंथन देवताओं और असुरों ने अमृत-प्राप्ति के लिए किया था |एक शिकारी की कथा भी इस त्यौहार के साथ जुड़ी हुई है कि कैसे उसके अनजाने में की गई पूजा से प्रसन्न होकर भगवान् शिव ने उस पर अपनी असीम कृपा की थी | यह कथा पौराणिक “शिव पुराण” में भी संकलित है …

प्राचीन काल में, किसी जंगल में एक गुरुद्रुह नाम का एक शिकारी रहता था जो जंगली जानवरों का शिकार करता तथा अपने परिवार का भरण-पोषण किया करता था |एक बार शिव-रात्रि के दिन जब वह शिकार के लिए निकला , पर संयोगवश पूरे दिन खोजने के बाद भी उसे कोई शिकार न मिला, उसके बच्चों, पत्नी एवं माता-पिता को भूखा रहना पड़ेगा इस बात से वह चिंतित हो गया , सूर्यास्त होने पर वह एक जलाशय के समीप गया और वहां एक घाट के किनारे एक पेड़ पर थोड़ा सा जल पीने के लिए लेकर, चढ़ गया क्योंकि उसे पूरी उम्मीद थी कि कोई न कोई जानवर अपनी प्यास बुझाने के लिए यहाँ ज़रूर आयेगा |वह पेड़ ‘बेल-पत्र’ का था और उसी पेड़ के नीचे शिवलिंग भी था जो सूखे बेलपत्रों से ढके होने के कारण दिखाई नहीं दे रहा था |

See also  गायत्री मंत्र | Gayatri Mantra PDF In Hindi

रात का पहला प्रहर बीतने से पहले एक हिरणी वहां पर पानी पीने के लिए आई |उसे देखते ही शिकारी ने अपने धनुष पर बाण साधा |ऐसा करने में, उसके हाथ के धक्के से कुछ पत्ते एवं जल की कुछ बूंदे नीचे बने शिवलिंग पर गिरीं और अनजाने में ही शिकारी की पहले प्रहर की पूजा हो गयी |हिरणी ने जब पत्तों की खड़खड़ाहट सुनी, तो घबरा कर ऊपर की ओर देखा और भयभीत हो कर, शिकारी से , कांपते हुए स्वर में बोली- ‘मुझे मत मारो |’ शिकारी ने कहा कि वह और उसका परिवार भूखा है इसलिए वह उसे नहीं छोड़ सकता |हिरणी ने वादा किया कि वह अपने बच्चों को अपने स्वामी को सौंप कर लौट आयेगी| तब वह उसका शिकार कर ले |शिकारी को उसकी बात का विश्वास नहीं हो रहा था |उसने फिर से शिकारी को यह कहते हुए अपनी बात का भरोसा करवाया कि जैसे सत्य पर ही धरती टिकी है; समुद्र मर्यादा में रहता है और झरनों से जल-धाराएँ गिरा करती हैं वैसे ही वह भी सत्य बोल रही है | क्रूर होने के बावजूद भी, शिकारी को उस पर दया आ गयी और उसने ‘जल्दी लौटना’ कहकर , उस हिरनी को जाने दिया |

थोड़ी ही देर बाद एक और हिरनी वहां पानी पीने आई, शिकारी सावधान हो गया, तीर सांधने लगा और ऐसा करते हुए, उसके हाथ के धक्के से फिर पहले की ही तरह थोडा जल और कुछ बेलपत्र नीचे शिवलिंग पर जा गिरे और अनायास ही शिकारी की दूसरे प्रहर की पूजा भी हो गयी |इस हिरनी ने भी भयभीत हो कर, शिकारी से जीवनदान की याचना की लेकिन उसके अस्वीकार कर देने पर ,हिरनी ने उसे लौट आने का वचन, यह कहते हुए दिया कि उसे ज्ञात है कि जो वचन दे कर पलट जाता है ,उसका अपने जीवन में संचित पुण्य नष्ट हो जाया करता है | उस शिकारी ने पहले की तरह, इस हिरनी के वचन का भी भरोसा कर उसे जाने दिया |

अब तो वह इसी चिंता से व्याकुल हो रहा था कि उन में से शायद ही कोई हिरनी लौट के आये और अब उसके परिवार का क्या होगा |इतने में ही उसने जल की ओर आते हुए एक हिरण को देखा, उसे देखकर शिकारी बड़ा प्रसन्न हुआ ,अब फिर धनुष पर बाण चढाने से उसकी तीसरे प्रहर की पूजा भी स्वतः ही संपन्न हो गयी लेकिन पत्तों के गिरने की आवाज़ से वह हिरन सावधान हो गया |उसने शिकारी को देखा और पूछा –“ तुम क्या करना चाहते हो ?” वह बोला-“अपने कुटुंब को भोजन देने के लिए तुम्हारा वध करूंगा |” वह मृग प्रसन्न हो कर कहने लगा – “मैं धन्य हूँ कि मेरा यह शरीर किसी के काम आएगा, परोपकार से मेरा जीवन सफल हो जायेगा पर कृपया कर अभी मुझे जाने दो ताकि मैं अपने बच्चों को उनकी माता के हाथ में सौंप कर और उन सबको धीरज बंधा कर यहाँ लौट आऊं |” शिकारी का ह्रदय, उसके पापपुंज नष्ट हो जाने से अब तक शुद्ध हो गया था इसलिए वह विनयपूर्वक बोला –‘ जो-जो यहाँ आये ,सभी बातें बनाकर चले गये और अभी तक नहीं लौटे ,यदि तुम भी झूठ बोलकर चले जाओगे ,तो मेरे परिजनों का क्या होगा ?” अब हिरन ने यह कहते हुए उसे अपने सत्य बोलने का भरोसा दिलवाया कि यदि वह लौटकर न आये; तो उसे वह पाप लगे जो उसे लगा करता है जो सामर्थ्य रहते हुए भी दूसरे का उपकार नहीं करता | शिकारी ने उसे भी यह कहकर जाने दिया कि ‘शीघ्र लौट आना |’

See also  वंदे मातरम (राष्ट्रीय गीत) | Vande Mataram Lyrics PDF in Hindi

रात्रि का अंतिम प्रहर शुरू होते ही उस शिकारी के हर्ष की सीमा न थी क्योंकि उसने उन सब हिरन-हिरनियों को अपने बच्चों सहित एकसाथ आते देख लिया था |उन्हें देखते ही उसने अपने धनुष पर बाण रखा और पहले की ही तरह उसकी चौथे प्रहर की भी शिव-पूजा संपन्न हो गयी | अब उस शिकारी के शिव कृपा से सभी पाप भस्म हो गये इसलिए वह सोचने लगा-‘ओह, ये पशु धन्य हैं जो ज्ञानहीन हो कर भी अपने शरीर से परोपकार करना चाहते हैं लेकिन धिक्कार है मेरे जीवन को कि मैं अनेक प्रकार के कुकृत्यों से अपने परिवार का पालन करता रहा |’ अब उसने अपना बाण रोक लिया तथा मृगों से कहा की वे सब धन्य है तथा उन्हें वापिस जाने दिया|उसके ऐसा करने पर भगवान् शंकर ने प्रसन्न हो कर तत्काल उसे अपने दिव्य स्वरूप का दर्शन करवाया तथा उसे सुख-समृद्धि का वरदान देकर “गुह’’ नाम प्रदान किया |मित्रों, यही वह गुह था जिसके साथ भगवान् श्री राम ने मित्रता की थी |

शिव जी जटाओं में गंगाजी को धारण करने वाले, सिर पर चंद्रमा को सजाने वाले,मस्तक पर त्रिपुंड तथा तीसरे नेत्र वाले ,कंठ में कालपाश [नागराज] तथा रुद्रा- क्षमाला से सुशोभित , हाथ में डमरू और त्रिशूल है जिनके और भक्तगण बड़ी श्रद्दा से जिन्हें शिवशंकर, शंकर, भोलेनाथ, महादेव, भगवान् आशुतोष, उमापति, गौरीशंकर, सोमेश्वर, महाकाल, ओंकारेश्वर, वैद्यनाथ, नीलकंठ, त्रिपुरारि, सदाशिव तथा अन्य सहस्त्रों नामों से संबोधित कर उनकी पूजा-अर्चना किया करते हैं —– ऐसे भगवान् शिव एवं शिवा हम सबके चिंतन को सदा-सदैव सकारात्मक बनायें एवं सबकी मनोकामनाएं पूरी करें |

पूजा विधि

महाशिवरात्रि के दिन सूर्योदय से पहले उठकर स्नान करके एवं नए वस्त्र पहनकर व्रत रखने का संकल्प लें। इसके पश्चात भगवान शिव के मंदिर में जाकर भगवान शिव की पूजा करें।  शिवलिंग में अभिषेक के लिए गन्ने का रस,  कच्चे दूध या शुद्ध घी  का उपयोग करें।  और इसके बाद महादेव को बेलपत्र,  भांग,  धतूरा,  जायफल,  फूल,  फल,  मिठाई  एवं मित्र अर्पित करें इसके बाद शिव चालीसा का पाठ करें एवं भगवान शिव की आरती गाए। + ॐ नमः शिवाय का जाप

महाशिवरात्रि पूजा मुहूर्त

रात्रि प्रथम प्रहर : 18 फरवरी शाम 6:21 मिनट से रात 9:31 तक

रात्रि द्वितीय प्रहर : 18 फरवरी रात 9: 31 मिनट से 12:41 मिनट तक

रात्रि तृतीय प्रहर : 18-19 फरवरी की रात 12:42 मिनट से 3: 51 मिनट तक

रात्रि चतुर्थ प्रहर : मध्यरात्रि बाद 3:52 मिनट से सुबह 7:01 मिनट तक

महाशिवरात्रि व्रत पूजा सामग्री लिस्ट

शिव जी की तस्वीर या छोटा शिवलिंग, बेलपत्र, भांग धतूरा मदार पुष्प, फूलों की माला शमी के पत्ते कमल और सफेद फूल, गंगाजल, महादेव के लिए वस्त्र, गाय का दूध, दही, शक्कर जनेऊ, चंदन, केसर, अक्षत् इत्र, लौंग, छोटी इलायची, पान, सुपारी शहद, बेर, मौसमी फल, खस मौली, रक्षा सूत्र, भस्म, अभ्रक, कुश का आसन महाशिवरात्रि व्रत कथा, शिव चालीसा, शिव आरती की पुस्तक ,भोग के लिए हलवा, ठंडाई, लस्सी, मालपुआ आदि पूजा के बाद हवन सामग्री, परिमल द्रव्य, रत्न, आभूषण दान के लिए कंबल, वस्त्र, अन्न, गुड़, घी, फल आदि माता पार्वती के लिए श्रृंगार सामग्री, साड़ी आरती के लिए दीपक, गाय का घी, कपूर

Download PDF Now

If the download link provided in the post (महाशिवरात्रि व्रत कथा | Maha Shivratri Vrat Katha PDF, Aarti, Puja Vidhi in Hindi) is not functioning or is in violation of the law or has any other issues, please contact us. If this post contains any copyrighted links or material, we will not provide its PDF or any other downloading source.

Leave a Comment

Join Our UPSC Material Group (Free)

X