राधा रानी आरती | Shri Radha Rani Ji Ki Aarti PDF in Hindi

Download Full PDF of राधा रानी आरती | Shri Radha Rani Ji Ki Aarti Lyrics in Hindi

श्री वृषभानुसुता की मां श्री राधा रानी की आरती सबसे ज्यादा प्रसिद्ध है इस आरती को अनेक अवसरों पर गाया जाता है क्योंकि हिंदू धर्म में यह माना गया है कि श्री राधा रानी जी की आरती गाने से सभी तरीके के विघ्न दूर हो जाते हैं और रुके हुए काम भी आसानी से आगे बढ़ जाते हैं तथा भगवान श्री कृष्ण जी की भी विशेष कृपा होती है.

राधा रानी को श्री भगवान कृष्ण का सर्वाधिक प्रिय माना गया है अर्थात यदि आप श्री राधा रानी जी को प्रसन्न करके उनकी कृपा पाते हैं तो स्वतः ही आप पर भगवान श्री कृष्ण की कृपा हो जाती है इसीलिए हिंदू धर्म में श्री राधा रानी जी की आरती को सर्वाधिक उपयुक्त माना गया है और अनेक अवसरों पर इसे गाया भी जाता है आइए चलते आप को ले जाते हैं श्री राधा रानी जी की इस विशेष आरती में,

॥ श्री राधा माता जी की आरती ॥ (Radha Rani Ji Ki Aarti)

आरती श्री वृषभानुसुता की,मंजुल मूर्ति मोहन ममता की।

त्रिविध तापयुत संसृति नाशिनि,विमल विवेकविराग विकासिनि।

पावन प्रभु पद प्रीति प्रकाशिनि,सुन्दरतम छवि सुन्दरता की॥

आरती श्री वृषभानुसुता की।

मुनि मन मोहन मोहन मोहनि,मधुर मनोहर मूरति सोहनि।

अविरलप्रेम अमिय रस दोहनि,प्रिय अति सदा सखी ललिता की॥

आरती श्री वृषभानुसुता की।

संतत सेव्य सत मुनि जनकी,आकर अमित दिव्यगुन गनकी।

आकर्षिणी कृष्ण तन मन की,अति अमूल्य सम्पति समता की॥

आरती श्री वृषभानुसुता की।

कृष्णात्मिका कृष्ण सहचारिणि,चिन्मयवृन्दा विपिन विहारिणि।

जगज्जननि जग दुःखनिवारिणि,आदि अनादि शक्ति विभुता की॥

आरती श्री वृषभानुसुता की।

Download PDF Now

Leave a Comment