Sunrise Over Ayodhya PDF

You are currently viewing Sunrise Over Ayodhya PDF

Download PDF of Sunrise Over Ayodhya Book By Salman Khurshid

PDF NameSunrise Over Ayodhya
AuthorSalman Khurshid
LanguageEnglish
Total Pages304
SourceOnline

You all can download Book Sunrise Over Ayodhya PDF Free Download By Salman Khurshid using direct given link below which is free for all.

Sunrise Over Ayodhya

Recently Congress leader and former minister Salman Khurshid launched his latest book Sunrise Over Ayodhya – Nationhood in our Times. Through this book, Salman Khurshid explores how the greatest opportunity that the judgment offers is a reaffirmation of India as a secular society.

On 9 November 2019, the Supreme Court, in a unanimous verdict, cleared the way for the construction of a Ram temple at the disputed site in Ayodhya.

As we look back, we will be able to see how much we have lost over Ayodhya through the years of conflict. If the loss of a mosque is preservation of faith, if the establishment of a temple is emancipation of faith, we can all join together in celebrating faith in the Constitution. Sometimes, a step back to accommodate is several steps forward towards our common destiny.

This is very useful and informative book about the legal battles in Ayodhya case. The author’s concerns about the judgment emboldening Hindutva forces for a majoritarian rule are well founded.

We have Given Online Link of Sunrise Over Ayodhya PDF Free You can Read or download this book.

Sunrise Over Ayodhya PDF Free Download

Get Book Here


REPORT THIS

If the download link of Sunrise Over Ayodhya PDF is not working or if any way it violates the law or has any issues then kindly Contact Us. If Sunrise Over Ayodhya PDF contain any copyright links or material then we will not further provide its pdf and any other downloading source.

This Post Has 2 Comments

  1. सागर भाई जब मुसलमानों को आरक्षण, और बहुत सारे विचार से बदनाम करता हैं, और कुरआन शरीफ को गालियां दीं जाति हैं, और रसुल सल्लेवासम पर गन्दी बातें करते हैं , और और आज़ादी के वक्त मैं शाहिद हुऐ लोगो को ये बोलते है ये आज़ादी नहीं थीं आज़ादी सिर्फ़ २०१४ से मिली थीं , और बार बार बाबर अकबर कि बात कर भारत देश में नफरत पैदा करता है, और आसाम में दंगा होता और हिंदुत्व खतरे बोलते हैं, दिल्ली मे दंगा करवाया हिंदुत्व खतरे में बोलते हैं, गुजरात, दंगा करवाया हिंदुत्व खतरे में बोलते हैं,१९९२ में बाबरी मस्जिद तौर कर पूरे देश भारत दंगा करवाया और मां भेनों का रेप हुआ और घर लुटा गया और हिंदुत्व खतरे में बोलते हैं, श्री राम मंदिर निर्माण चंदा गोटाला हुआ फिर भी हिंदुत्व खतरे बोलते हैं, कारगिल युद्ध में पाकिस्तान कि आर्मी अन्दर तक आ गई और कर्नल पुरोहित सिंह पाकिस्तान को आरडीएक्स सप्लाई करता फिर भी हिंदुत्व खतरे में, मालेगांव ब्लास्ट साध्वी प्रज्ञा ने किया और आज वो विधायक बन कर बैट जाति हैं फिर भी हिंदुत्व खतरे में, पुलवामा में आरडीएक्स रोड तक आ जाता हैं और बहुत सारे भारत आर्मी कि जान चली जाति फिर भी हिंदुत्व खतरे में, जज गोपाल लॉया का मर्डर नागपुर हायवे पर होता हैं फिर भी हिंदत्व खतरे में, पोलिस डिपार्टमेंट राबिया सैफी का रेप कर के मर्डर कर देते और फरीदाबाद में दाल देते हैं फिर भी हिंदुत्व खतरे में है, उत्तर प्रदेश में बहुत सारे एमएलए एमपी लेडीज़ का रेप करते हैं फिर भी हिंदुत्व खतरे में है, आश्रम में महिला का रेप होता हैं फिर भी हिंदुत्व खतरे में हैं, भारत में महिला २०१४ से अभी तक कंटिन्यू महिला का रेप होता हैं, और लोगो को मार देते हैं श्री राम बोलते पर फिर भी हिंदुत्व खतरे में, और मुस्लिम समाज के लोगो को cow के नाम पर मार देते हैं और बोलते हैं हिंदुत्व खतरे में हैं, देश भारत से गोटला कर देश से २८ हिन्दू अमीर आदमी जैसे विजय माल्या, नीरो मोदी ईटीसी लोग America, London, UK, में सैटल हो जाते हैं फिर भी हिंदुत्व खतरे में हैं, जो अमीर है बस अमीर होते जा रहा है और जो गरीब होते जा रहा हैं टैक्स पर टैक्स मंगाई बढ़ते जा रही हैं नौकरी रही नहीं, गवर्मेंट हॉस्पिटल कि हालात ख़राब है स्कोल कॉलेज कि हालत ख़राब है फिर भी हिंदुत्व खतरे में है, जब भी क्रिकेट जैसा गन्दा खेल खेला जाता हैं तो लोगो से नफरत और वो पाकिस्तानी हैं वो इनियन बोलने का रिवाज और बोलते हैं हिंदुत्व खतरे में हैं, अफगानिस्तान में तालीबान हुकूमत बनाया और यहां भारत में गन्दी राजनीति और झुटा खबर को एडिटिंग कर के लोगो बताया किया अभि कि गवर्मेंट को मालुम नहीं था अफगानिस्तान कि हालात ख़राब है फिर भी कोरोर रुपए का इन्वेस्टमेंट भारत सरकार करती हैं और बोलती हैं हिंदुत्व खतरे में हैं, बांग्लादेश में दुर्गा मूर्ति के नीचे कुरआन शरीफ रख कर नफरत का पैगाम दिया गया बांग्लादेश के हिन्दू और जब दुर्गा मूर्ति को तौर दिया गया तो उस के निचे क़ुरआन शरीफ़ निकलता है और त्रिपुरा अगर्तरा में मुस्लिम समाज का घर जला देते हैं, फिर और मूर्ति तोरी जाति हैं फिर मुस्लिम समाज कि मां भेनो का रेप होता और मस्जिद तोरी जाति हैं, पूरे देश भारत के हिन्दू समाज में फैला दिया जाता हैं के हिंदुत्व खतरे में हैं, किसान आंदोलन में लोगो पर गोली चलाई जाति हैं लोगो पर व्हीकल चला देते हैं और बोलते हैं हिंदुत्व खतरे में हैं , शाहिद अशोक कामटे , विजय शैलेशकर, हेमंत करकरे को राजनीती कर के इन तीनों को रास्ते से हटा दिया जाता हैं और उन कि जितनी क्रिमनिल फाइल होती हैं उस मै आग लगा दिया जाता हैं और बोलते हैं हिंदुत्व खतरे में हैं, महात्मा गांधी जी के मर्डर करने वाले गोडसे को भगवान् के रूप में पूजा जाता और वीर सावरकर ब्रिटिश सरकार से माफी मांगता है इन को भी भगवान् के रूप में पूजा जाता हैं और बोलते हैं हिंदुत्व खतरे में हैं, आज़ादी कि सब से पहले मुस्लिम चलाता है १८५७ में और १८५७ से ले कर १९४७ तक मुस्लिम समाज के लोगो ने भारत कि आज़ादी में बहुत कुर्बानी दी और आज़ादी मिल जाने के बाद कुर्सी के लिए भारत और पाकिस्तान बना जिन को जाना था वो चले गए और जो मुस्लिम १९४७ से कंटिन्यू भारत में रह रहा हैं , और उस बाद से अभि तक बहुत मुस्लिम समाज के लोगो बहुत सारे कुर्बानी दी है लेकिन खुच भी इज्ज़त नहीं और जरा जरा बात पर पाकिस्तानी बोलना और बाबर अकबर कि कहानी सुनाना और जो मुस्लिम समाज का आदमी अब्दुल हामिद अंसारी ने पाकिस्तान तक टैंक ले जाता हैं और अपने आप को खतम कर देता है और उस के बेटा ऑक्सीजन ना मिलने से मर जता है ये सिर्फ़ इंडियन आर्मी में मुस्लिम कि ख़राब हालात हैं और सात मैं इंडियन आर्मी में सभी जाती को कोई facility’s नहीं हैं, और प्राइवेट कंपनियों में भी ऐसा ही हो रहा सिर्फ़ गरीब का खून चूस रहे हैं अपना फायदा करते हैं और वो अमीर आदमी वो पैसा राजनीती में लगाता है और अपना फायदा करता है और लोगों के बीच वो राज नेता ये बोलता है हिंदुत्व खतरे में हैं,१९४७ से २०१३ भारत में हिन्दू समाज कि सरकार और २०१३ से २०२१ तक कंटिन्यू भारत में हिन्दू समाज कि सरकार फिर भी ये राजनेता बोलते हिंदुत्व खतरे में हैं,२०१९ में पुरी दुनियां में चाइना से covid-१९ कि बीमारी कि हवा चल रही थी लेकिन भारत देश का प्रधान मंत्री अमेरिका के सदर डोनाल ट्रंप से गुजरात में पार्टी कर रहे थे, चाइना ने मेहघाले में पूरा एक विलेज बना दिया है, और हिन्दू समाज को हिन्दू राज नेता और कंगना राणावत और बीजेपी, आरएसएस, वीएचपी, बजरंग दल के लोग बोलते हिंदुत्व खतरे में हैं और भारत देश में हर जगह नफरत पैदा करना और महिला का रेप , श्री राम बोलने पर लोगो का मर्डर,cow के नाम पर लोगो का मर्डर , ईटीसी , न्यूज़ चेनल पर सिर्फ़ ऐसे लोगो का सात देना और झुटी खबर चलाना और डर बाबा साहेब आंबेडकर का संविधान में हेरा फेरी कर के कानून को बदलना और लोगो बताना हिंदुत्व खतरे में हैं।
    लक्षदीप में मुसलमानों पर ज़ुल्म होता हैं और लोगो को बताया जाता हैं हिंदुत्व खतरे में हैं।
    ये हैं हमारा भारत आज़ादी के बाद से छोटी सी घटना और भी बहुत कुछ बाकी फिर भी खुच बिकाऊ मीडिया, और ऐक्टर, मंत्री आम आदमी के बिच में फितना पैदा कर के अपना फायदा करते हैं और जनता को खुच भी नहीं मिलता हैं मिलता बस सिर्फ़ नफरत।
    आखिर ऐसा कब तक चले ग?
    किया फर्क है जब राजा महाराजा कि गवर्मंट थीं?
    और किया फर्क था जब ब्रिटिश सरकार कि गवर्मेंट थीं और अभि?
    १९४७ से २०२१ कंटिन्यू भारत में हिन्दू समाज कि सरकार हैं और इन कि ही सरकार रहने वाली हैं लेकिन किया फर्क है अभि के वक्त मैं?
    हिंदुत्व खतरे में बोल बोल कर पूरे देश भारत में एक इंसानियत कि हत्या हो रही है किया ये सहि हैं?
    इंकिलाब ज़िंदाबाद
    आज़ादी के वक्त शाहिद ज़िंदाबाद
    भारत देश ज़िंदाबाद
    जय हिन्द
    जय भारत
    By Sarfaraz🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳

  2. Rajesh Sharma

    अरब के रेक्षगलतान मेंकबीलों की आपसी लड़ाई मेंमोहम्मद
    नामक मानक्षसक बीमार व्यक्षि नेएक िक्षि को अकलाह का नाम
    देतेहुए इललाम धममलथाक्षपत क्षकया और मोहम्मद की मत्ृयुकेबाद
    इललाम के िूर खलीर्ाओ नेइललाम को तलवार की नोक पर
    लोगों का गला काि कर जबरनपरूी दक्षुनया मेंइललाम को र्ैलाया
    जो आज दक्षुनया मेंएक बड़ा धममबन चकुाहैऔर दक्षुनया केक्षलए
    हीएक बहुत बड़ाखतरा बन चकुाह।ै
    मोहम्मद को जानना इसक्षलए भी बहुत जरूरी हैकी दक्षुनया के
    करोड़ो मसुलमान मोहम्मद बननेकी कोक्षिि करतेहैंजो मोहम्मद
    क्षकया करतेथेउसेसन्ुनत कहकर अपनेजीवन मेंिाक्षमल करनेकी
    कोक्षिि करतेहैंइसका पररणाम यह हो रहा हैक्षक मसुलमानों में
    पागलपन धमम के नाम पर ज्यादा पैदा हो रहा हैमानवता यह
    खतरनाक दौर सेगुजर रही हैदक्षुनया मेंरहनेवालों मेंसेहर एक
    पांचवा मनष्ुय एक मानक्षसक बीमार व्यक्षि को अकलाह का
    संदेिवाहक यानी क्षक पैगंबर मानकरपछू रहा हैआत्मघाती हमले
    कर रहाहैअपनी जान कीपरवाहक्षकएक्षबनादसूरेमनष्ुय कीहत्य

Leave a Reply