Wasim Rizvi Book Muhammad PDF Free

Download the PDF of Wasim Rizvi Book Muhammad

Book NameMuhammad
AuthorWasim Rizvi
Total Pages100+
Size10 MB
SourceOnline

Download Latest Book Muhammad PDF By Wasim Rizvi From the given direct given link below for free.

Waseem Rizvi is a member and former chairman of the Shia Central Board of Waqf in Uttar Pradesh. He is known for filing a petition in India’s Supreme Court, as well as producing the Bollywood film Ram Ki Janmabhoomi.

Muhammed – released in November 2021, in which Rizvi has given his viewpoint on why Islam came about and why he considers it a violent religion. He has claimed that he has referred to 350 Islamic books while writing his book.

किताब का कुछ अंश

इस “मोहम्मद” नामक पुस्तक में मोहम्मद नामक व्यक्ति के मनोवैज्ञानिक रहस्यों को उजागर करते हुए मोहम्मद को समझने की कोशिश की गई है इतिहासकार बताते हैं कि मोहम्मद एक सुनसान गुफा में चले जाते थे और वहां घंटों बैठे रहते थे और बाद में आकर अपनी बीवी खदीजा जोकि अरब की एक बहुत ही अमीर औरत थी उन्हें यह बात समझाने की कोशिश करते थे कि वह अल्लाह के पैगंबर हो गए हैं और धीरे-धीरे मोहम्मद अपने रंग-ढंग बदलने लगे जिन लोगों ने मोहम्मद को अल्लाह का रसूल मान लिया उनको मोहम्मद ने अपने साथ ले लिया और जिन लोगों ने मोहम्मद को अल्लाह का रसूल मानने से इनकार कर दिया और उनकी आलोचना की तो उनकी हत्या कर दी गई।

पूरा विश्व इस बात पर सहमत है की विश्व का रचेता एक है, और ज्यादातर दुनिया में रह रहे लोग अपने धर्म के हिसाब से दुनिया के रचयिता को एक शक्ति मानते हुए उसका सम्मान करते हैं, मोहम्मद के जमाने में यहूदी और क्रिश्चियन हुआ करते थे जिनसे मोहम्मद की अच्छी दोस्ती थी मोहम्मद उनके धर्म के बारे में उनसे ज्ञान लिया करते थे और फिर मोहम्मद ने जब अपने को अल्लाह का पैगंबर घोषित किया तो उसने दुनिया के रचयिता को अल्लाह का नाम दिया।

See also  Rajasthan Chronology Volume 33, 34,35, 36 PDF

मोहम्मद अनाथ थे और उनका बचपन कठिन था बचपन में ही उनकी मां ने भी उन्हें छोड़ दिया था फिर उनके दादा और चाचा की देखभाल में उनकी परवरिश हुई उन्हें अपने मां-बाप का प्यार नहीं मिला उनके दादा ने और चाचा ने उनको जरूरत से ज्यादा प्यार दिया जिसके कारण वह पूरी तरह से बिगड़ गए उन्हें ना मर्यादा सिखाई गई और ना ही अनुशासन का पाठ पढ़ाया गया वह सीमित ताकत हासिल करने की कल्पना करने लगे क्योंकि वह बचपन में कठिन दौर से गुजरे थे तो उन्होंने अपना व्यवहार ऐसा दिखाया कि लोग उन पर भरोसा करें और उनकी प्रशंसा करें वे स्वयं दूसरों से लाभ लेते थे और उन्हें यह भी लगता था कि लोग उनसे जलते हैं। जब कोई उन्हें अस्वीकार करता था तो बहुत आहत हो जाते थे। और उसकी हत्या भी करवा देते थे। मोहम्मद झूठ बोलते थे लोगों को धोखा देते थे और ऐसा करना न्याययोजित और अपना अधिकार समझते थे। वह ऐसा व्यवहार अपनी मानसिक बीमारी के कारण करते थे।

Download PDF Now

Leave a Comment