महालक्ष्मी धन प्राप्ति मंत्र | MahaLaxmi Dhan Prapti Mantra PDF

Download PDF of महालक्ष्मी धन प्राप्ति मंत्र Mahalaxmi Dhan Prapti Mantra Lyrics in Hindi

Size1 MB
Total Pages2
LanguageHindi
SourcePDF NOTES

You all can download महालक्ष्मी धन प्राप्ति मंत्र MahaLaxmi Dhan Prapti Mantra in Hindi free from the given link below which is free for all users.

माता लक्ष्मी को धन की देवी कहा जाता है, तथा धन के देवता कुबेर को माना गया है ऐसा कहा जाता है कि महालक्ष्मी कभी भी एक स्थान पर नहीं रहती अर्थात आज किसी एक के पास है तो कल दूसरे के घर की शोभा बढ़ाती हैं लेकिन कुबेर देव स्थिर रूप में रहते हैं वैसे भी कुबेर देव को देवताओं का कोषाध्यक्ष माना गया है जब उनकी कृपा किसी व्यक्ति पर पड़ती है तो धन प्राप्ति के योग बनने लगते हैं अगर आप कुबेर देवता को पसंद करते हैं तो आपके जीवन में कभी भी धन की कमी नहीं होगी । इसके लिए आप नीचे दिए गए मंत्र का जाप कर सकते हैं ।

Mantra Lyrics in Hindi Given Below

ॐ यक्षाय कुबेराय वैश्रवणाय धन धान्याधिपतये धन-धान्यं स्मृद्धि देहि दापय दापय स्वाहा ।

इसके अलावा नीचे कुछ और मंत्र दिए गए हैं इनका उच्चारण करने पर भी आपके घर में धन प्राप्ति होती है अर्थात अगर आप धन प्राप्त करना चाहते हैं तो उसके लिए आपको माता लक्ष्मी तथा धन के देवता कुबेर की पूजा करनी चाहिए.

खासकर आपको विशेष मंत्र का उच्चारण करना चाहिए क्योंकि इन मंत्रों के उच्चारण से ही आपके घर में सदैव मां लक्ष्मी तथा कुबेर का वास बना रहेगा ।

क्योंकि ऐसा देखा जाता है कि जो व्यक्ति पूरी श्रद्धा के साथ कुबेर देवता तथा माता लक्ष्मी की पूजा-अर्चना करता है उसे किसी भी प्रकार की धन हानि नहीं होती हैं आपको धन हानि नहीं होगी तो जितने भी प्रकार के कर्ज या धन संबंधित समस्याएं आपके जीवन में होगी वह इन मंत्रों के उच्चारण से दूर हो जाती है ।

मंत्र- ‘ॐ हनुमते नम:’ का जाप नित्य रोज करने से, आर्थिक और वित्तीय क्षेत्र में लाभ प्राप्त होता है।

ॐ श्रीं ह्रीं क्लीं त्रिभुवन महालक्ष्म्यै अस्मांक दारिद्र्य नाशय प्रचुर धन देहि देहि क्लीं ह्रीं श्रीं ॐ ।।

ॐ श्रींह्रीं श्रीं कमले कमलालये प्रसीद प्रसीद श्रीं ह्रीं श्रीं ॐ महालक्ष्मी नम: ।।

‘ॐ ह्रीं पद्मावति देवी त्रैलोक्यवार्ता कथय कथय ह्रीं स्वाहा ।।’

Download PDF Now

1 thought on “महालक्ष्मी धन प्राप्ति मंत्र | MahaLaxmi Dhan Prapti Mantra PDF”

Leave a Comment