धनतेरस कथा, पूजा विधि | Dhanteras Katha, Puja Vidhi, Samagri PDF

Download PDF of Dhanteras Katha (Kahani), Puja Vidhi, Dhanvantari Aarti, Pujan Samagri List

धनतेरस को कार्तिक माह की कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि को मनाया जाता है इस दिन समुद्र मंथन के समय भगवान धन्वंतरि अमृत कलश लेकर प्रकट हुए थे इसीलिए इस दिन को धनतेरस या धनत्रयोदशी के नाम से जाना जाता है.

इसके अलावा भारत सरकार ने धनतेरस को राष्ट्रीय आयुर्वेद दिवस के रूप में मनाने का भी निर्णय लिया हैं । धनवंतरी के उत्पन्न होने के 2 दिनों पश्चात ही देवी लक्ष्मी जी प्रकट हुई इसीलिए धनतेरस कि 2 दिनों बाद ही दिवाली का त्यौहार मनाया जाता है.

धनतेरस के भगवान धनवंतरी, मां लक्ष्मी और धन के देवता कुबेर की पूजा की जाती है। मान्यताओं के अनुसार धनतेरस पर विधि-विधान से पूजा करने पर आरोग्य और सुख-समृद्धि तथा पूरे साल घर में मां लक्ष्मी की कृपा बनी रहती है।

धनतेरस की कथा (Dhanteras Ki Katha)

धर्म ग्रंथों के अनुसार, एक बार महर्षि दुर्वासा के श्राप के कारण स्वर्ग श्रीहीन (ऐश्वर्य, धन, वैभव आदि) हो गया। तब सभी देवता भगवान विष्णु के पास गए। भगवान विष्णु ने उन्हें असुरों के साथ मिलकर समुद्र मंथन करने का उपाय बताया और ये भी बताया कि समुद्र मंथन को अमृत निकलेगा, जिसे ग्रहण कर तुम अमर हो जाओगे साथ ही स्वर्ग की संपदा भी पुन: लौट आएगी। यह बात जब देवताओं ने असुरों के राजा बलि को बताई तो वे भी समुद्र मंथन के लिए तैयार हो गए। वासुकि नाग की नेती बनाई गई और मंदराचल पर्वत की सहायता से समुद्र को मथा गया। समुद्र मंथन से उच्चैश्रवा घोड़ा, ऐरावत हाथी, लक्ष्मी, भगवान धन्वंतरि सहित 14 रत्न निकले। भगवान धन्वंतरि के हाथ में अमृत कलश देखकर देवता और असुरों में लड़ाई छिड़ गई। तब भगवान विष्णु ने मोहिनी अवतार लेकर छल से देवताओं को अमृत पिला दिया और असुर उससे वंचित रह गए।

See also  खंडोबा आरती | Khandoba Aarti Lyrics in Marathi PDF

शास्त्रों के अनुसार इसी दिन भगवान धन्वंतरी का जन्म हुआ था इसीलिए इसे धनतेरस त्योहार के रूप में मनाया जाता है क्योंकि इस दिन भगवान धन्वंतरि अमृत कलश लेकर प्रकट हुई थी इसीलिए इस दिन बर्तन खरीदने की परंपरा शुरू हुई
कहा जाता है जब भगवान धन्वंतरी हाथों में स्वर्ण कलश लेकर सागर मंथन से उत्पन्न हुई उसके उपरांत धन मंत्री ने कलर से भरे हुए अमृत को देवताओं को देकर उन्हें अमर बना दिया था ।

हिंदू शास्त्रों के अनुसार भगवान धनवंतरी देवताओं के वैद्य माने जाते हैं इनकी भक्ति करने से आप सदैव निरोगी रहते हैं मान्यता है कि भगवान धनवंतरी विष्णु के अंशावतार हैं। साथ ही ऐसा भी माना जाता है कि संसार में चिकित्सा विज्ञान के विस्तार और प्रसार के लिए ही भगवान विष्णु ने धनवंतरी का अवतार लिया था ।

धनतेरस पूजा विधि (Dhanteras Puja Vidhi)

  • धनतेरस पूजा की शुरुआत संध्या के समय शुभ मुहूर्त में होती है
  • सबसे पहले भगवान धन्वंतरी मां लक्ष्मी तथा कुबेर जी की तस्वीर या प्रतिमा को स्थापित कर लीजिए
  • उसके बाद घी का दीपक प्रज्वलित कर दीजिए
  • अब आपने इस दिन जिस भी धातु, बर्तन अथवा ज्वेलरी की खरीदारी की है, उसे चौकी पर रखें।
  • उसके उपरांत चंदन से तिलक लगाएं तथा पूजा को शुरू कर लीजिए
  • पूजा के समय कुबेर जी के मंत्र “ॐ ह्रीं कुबेराय नमः” का जाप करें तथा धन्वंतरी स्त्रोत का पाठ करें
  • उसके बाद भगवान धन्वंतरी को पीले रंग की मिठाई का भोग लगाएं
  • तथा कुबेर जी को सफेद मिठाई अर्पित
  • उसके बाद मां लक्ष्मी और गणेश भगवान जी की पूजा करें
  • मां लक्ष्मी के समक्ष पी दीपक जलाएं तथा मां लक्ष्मी को तिलक लगाएं
  • उसके बाद मां लक्ष्मी को कमलगट्टे अर्पित करें
  • भगवान गणेश और मां लक्ष्मी को फूल तथा फल अर्पित करें
  • उसके बाद सभी को मिष्ठान का भोग लगाएं और आरती की भी शुरुआत करें
  • उसके उपरांत सभी की पूजा करें तथा प्रार्थना करें कि हमारे जीवन में सदैव सुख समृद्धि तथा हम सदैव निरोगी रहे ।
See also  छठ व्रत कथा, आरती | Chhath Vrat Katha, Aarti PDF

धनतेरस पर यम के नाम का दीप अवश्य जलाएं इसके लिए सबसे पहले एक पटरी पर स्वास्तिक का सिंह ने बनाएं तथा मिट्टी का दीपक प्रज्वलित करें दीपक पर तिलक लगाएं अब चावल फूल तथा चीनी अर्पित करें उसके उपरांत घर के लोगों का तिलक करें तथा दीपक की बाती को दक्षिण दिशा की ओर करके दरवाजे पर रख लीजिए क्योंकि दक्षिण दिशा को यम की दिशा माना गया है

धनतेरस पूजा सामग्री (Dhanteras Puja Samagri List)

  • भगवान धनतेरस, माँ लक्ष्मी तथा कुबेर की प्रतिमा/ तस्वीर
  • 21 पूरे कमल बीज
  • मणि पत्थर के 5 प्रकार
  • 5 सुपारी
  • लक्ष्मी–गणेश के सिक्के (10 ग्राम या अधिक)
  • अगरबत्ती
  • चूड़ी
  • तुलसी पत्र
  • नारियल
  • सिक्के
  • काजल
  • दहीशरीफा
  • पान
  • गंगा जल
  • माला
  • हल्दी
  • चंदन
  • लौंग
  • फूल
  • चावल
  • रोली
  • शहद
  • कपूर
  • धूप

भगवान धन्वंतरि की आरती (Dhanvantari Aarti)

जय धन्वंतरि देवा, जय धन्वंतरि जी देवा ।
जरा-रोग से पीड़ित, जन-जन सुख देवा ।।
जय धन्वं….।।

तुम समुद्र से निकले, अमृत कलश लिए ।
देवासुर के संकट आकर दूर किए ।।
जय धन्वं….।।

आयुर्वेद बनाया, जग में फैलाया ।
सदा स्वस्थ रहने का, साधन बतलाया ।।
जय धन्वं…।।

भुजा चार अति सुंदर, शंख सुधा धारी ।
आयुर्वेद वनस्पति से शोभा भारी ।।
जय धन्वं…।।

तुम को जो नित ध्यावे, रोग नहीं आवे ।
असाध्य रोग भी उसका, निश्चय मिट जावे ।।
जय धन्वं….।।

हाथ जोड़कर प्रभुजी, दास खड़ा तेरा ।
वैद्य-समाज तुम्हारे चरणों का घेरा ।।
जय धन्वं…।।

धन्वंतरिजी की आरती जो कोई नर गावे ।
रोग-शोक न आए, सुख-समृद्धि पावे ।।
जय धन्वं…।।

Download PDF Now

If the download link provided in the post (धनतेरस कथा, पूजा विधि | Dhanteras Katha, Puja Vidhi, Samagri PDF) is not functioning or is in violation of the law or has any other issues, please contact us. If this post contains any copyrighted links or material, we will not provide its PDF or any other downloading source.

Leave a Comment

Join Our UPSC Material Group (Free)

X